झारखंड के युवाओं में विकास की भूख को जगाना।

झारखंड राज्य का गठन हुए को 19 वर्ष हो चुके हैं। झारखण्ड भारत के सभी राज्यों में खनिज संपदा में धनी व प्राकृतिक रूप से सक्षम राज्य है। देश का 40% खनिज संपदा झारखण्ड राज्य में है, यह सब होने के बावजूद, इस राज्य में लगभग 40% आबादी गरीबी रेखा के नीचे है। झारखंड के लोग अब तक पूरी तरह जागरूक नहीं हुए हैं, यही सबसे बड़ा कारण रहा है कि झारखंड अभी भी भारी गरीबी से गुज़र रहा है। ऐसे में युवाओं को जागरुक होने की बेहद आवश्यकता है, क्योंकि झारखण्ड का युवा ही झारखण्ड का भविष्य है।

ऐसे में ‘झारखंड संपर्क’ युवाओं को सही राह दिखाने में मदद कर रहा है। युवाओं का समूह, जो युवाओं को हर क्षेत्र में प्रोत्साहित कर आगे बढ़ने और अपने साथ-साथ समाज को बदल देने के लिए राह पुष्ट कर रहा है। झारखण्ड संपर्क शोध एवं अनुसंधान के द्वारा झारखंड के विभिन्न क्षेत्रों की जानकारियों को लेकर यहां की हर स्थिति-परिस्थिति को समझने के लिए कार्य कर रहा है। ताकि यहां की हर परेशानियों का जानने के बाद उनके समाधान पर कार्य किया जाए।

जैसे, गांव में रहने वाले निर्धन और कमज़ोर लोगों को सक्षम बना रहे हैं –
जरूरत है कि गांव में निर्धन और कमज़ोर लोगों को एकजुट कर सक्षम बनाना, इसके लिए युवाओं का योगदान अतिआवश्यक है।

शिक्षित युवाओं को बेरोज़गारी का सामना ना करना पड़े-
बेरोज़गारी आज के समय में सबसे बड़ी समस्या है। शिक्षित होने के बावजूद घर में बेरोज़गार बैठे हुए हैं और नौकरी की तलाश में भटक रहे हैं। उन सभी को नौकरी की दिशा में आगे बढ़ाना।

संगठन के माध्यम से युवा शिक्षा, स्वास्थ्य, स्वच्छता, पर्यावरण, संरक्षण, महिला सशक्तिकरण, ग्रामीण विकास, आर्थिक विकास, कौशल विभाग और उद्यमशीलता इत्यादि पर ध्यान आकर्षित करा सकते हैं।

‘झारखंड संपर्क’ की पहल है कि इस राज्य के हर गांव में जाकर समस्याओं से परिचित हो युवाओं को उसके निवारण के लिए जागरूक किया जाए। ताकि, युवा उन समस्याओं को दूर करने के लिए प्रभावी कदम उठाए। चूंकि, युवा शक्ति एवं युवा जोश ही झारखण्ड को समृद्ध एवं आधुनिक झारखण्ड बनाने का एक ज़रिया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *