कम संसाधनों का इस्तेमाल कर झारखंड में जीत दर्ज करती जेवीएम

झारखंड विधानसभा चुनाव को लेकर राष्ट्रीय पार्टियां जैसे बीजेपी-कांग्रेस करोड़ों रुपए झोंक रही है। आजसू पार्टी जो कि बीजेपी की गठबंधन पार्टी है वह भी करोड़ों रुपए पॉलिटिकल रैलियों में खर्च कर रही है।जेएमएम जैसी क्षेत्रिय पार्टीयां भी भी लाखों-करोड़ों रुपए बांट रही है।अब यह प्रश्न भले ही कोई न पूछ रहा हो कि यह पैसे कहां से लाकर चुनाव में लगा रहे हो। झारखंड में सभी पार्टियां जनता की सेवा में पैसा खर्च करने को छोड़कर सिर्फ चुनाव जीतने में खर्च करती है।

वहीं इन सबसे अलग झारखंड की एक गरीब पार्टी 'झारखंड विकास मोर्चा'(जेवीएम) जो अपने सीमित संसाधनों के बावजूद झारखंड में पहली बार डिजिटल रैलियां कर रही है। पार्टी का हर एक कार्यकर्ता अपने नेता बाबूलाल मरांडी जी की जीत में अपना सहयोग दे रहा है,उनके व्याख्यानों को और आधुनिक झारखंड बनाने के इरादे को अपने-अपने क्षेत्र के जन-जन तक पहुंचा कर।

झारखंड विकास मोर्चा जैसी गरीब पार्टी अपने अल्प संसाधनों व युवाओं के जोश के साथ संघर्ष के मैदान में उतरी है। झारखंड विधानसभा में जेवीएम की जीत को युवाओं का साथ मिल रहा है।हर एक डिजिटल रैलियों में युवाओं का बाबूलाल मरांडी जी के संघर्ष में साथ मिल रहा है। नुक्कड़ों, गली-मोहल्ले में सभी युवा हो,चाहे बुजुर्ग हो,चाहे महिलाएं सभी झारखंड विकास मोर्चा की संघर्ष में अपना सहयोग दे रही है। डिजिटली लाइव संवाद करके, फेसबुक से जुड़कर,व्हाट्सएप पर अपनी बातें फैला कर, ट्विटर आदि प्लेटफॉर्म से झारखंड के युवाओं से जुड़ रहे है और हर युवा का साथ बाबूलाल के संघर्षों को मजबूती दे रहा है।

बाबूलाल मरांडी जी के आधुनिक झारखंड के सपनों को डिजिटल कैंपैन में झारखंड की भविष्य भी दिख रही है जहां पर सबकुछ डिजिटली होगा।ये इक्कसवीं सदी में झारखंड भी पीछे नहीं रहेगा, झारखंड भी दुनिया के साथ कदम दर कदम बढ़ा कर चलता रहे।यह निश्चित ही है की ऐसा होगा क्योंकि बाबूलाल आ रहे है और ला रहे आधुनिक झारखंड का सपना अपने साथ।इस तेज गति से चलने वाली दुनिया में पिछड़ी झारखंड को एक तेज गति से चलने वाले झारखंड प्रदेश बनाएंगे,देश का नंबर एक राज्य पूरा करेंगे इस सपने को बाबूलाल मरांडी।

कार्यकर्ताओं की निष्ठा,सप्रेम भाव कर्मनिष्ठता अपने नेता बाबूलाल मरांडी जी के प्रति और जेवीएम को झारखंड के सेवा करने का सौभाग्य मिले इसमें मग्न है।इनका जोश बाबूलाल मरांडी को मजबूत दे रहा है।

81 विधानसभाओं वाले झारखंड प्रदेश की जनता से बाबूलाल मरांडी सीधे जब बात रहे है।उनके दुःख दर्द का निदान कर रहे है।डिजिटली सीधे जनता अपनी समस्या बाबूलाल मरांडी को बता पा रही है।यह चीज बाबूलाल मरांडी को आगे झारखंड को समस्या को खत्म करने का भविष्य पूरा करने सपना दिख रहा है।

 हमने डिजिटली कैंपेन किया है हम डिजिटल झारखंड बनाएंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *